सोमवार, 16 जून 2008

स्व गोपाल बाबू गोस्वामी जी के गीतो में पर्यावरण प्रेम व संरक्षण का सन्देश


मित्रो
स्व गोपाल बाबू गोस्वामी जी एक महान गायक एवं सन्गीतकार होने के साथ साथ समाज के प्रति बडा जागरुक थे। मैं यहां पर उनके द्वारा गाये और रचित गीतों के माध्यम से उनके पर्यावरण प्रेम के बारे में जानने व समझने का प्रयास करुंगा।
गोस्वामी जी को पहाड और पहाड़ के प्राकर्तिक स्वरूप से बड़ा प्यार था, उनके हर गीत में पहाड़ और उसका अंग प्रत्यंग एक नये रूप में उपस्थित होता है जैसे नीचे के गीत में गोस्वामी जी पहाड की हवा को गले लगने को कह रहे हैं, ये कुछ कुछ कालीदास के मेघदूत की याद दिलाता है, पर यहां सन्देशवाहक मेघ की जगह हवा है:-
ओ बयायी ऎ जा अन्ग्वायी ..............................................
O bayayi aija angwayi
O bayayi aija angw...
Hosted by eSnips

इस गीत में देखिये कि किस प्रकार, उत्तराखण्ड व पहाड़ के पर्यावरण का जिक्र करते हुये गोस्वामी, जी लोगों से पहाड़ का ठण्डा पानी, फ़ल, फ़ूल और स्वस्थ हवा का आनन्द लेने को कह रहे हैं
पी जाओ पी जाओ मेरो पहाड़ को ठण्डो पानी..........................
boomp3.com
ऎसे ही एक गीत में गोस्वामी जी ने ऊत्तराखण्ड प्रदेश की प्रमुख नदी काली (शारदा) के सौन्दर्य का बडा सुन्दर चित्र प्रस्तुत किया है:
काली गंगा को कालो पानी ...............................................
boomp3.com
अब देखिये इस गीत में गोस्वामी जी प्रक्रति के सौन्दर्य से प्रभावित होकर अपने आप को मानव रूप की बजाय प्रक्रति के किस रूप में देख्नना चाह रहे हैं:
चल रूपा हिलांसै कि जोडी बनी जुंला ...................................
Chal Rupa Hilasein ki Jodi Bani Jun lau
Chal Rupa Hilasein...
Hosted by eSnips

गोस्वामी जी पहाड़ और पर्यावरण प्रेमी तो थे ही जोकि उनके गीतों से स्पष्ट है पर साथ ही वह पर्यावरण संरक्षण के प्रति भी जागरूक थे। जैसे नीचे के गीत में गोस्वामी जी बान्ज के जंगल को न काटने का सन्देश दे रहे हैं:-
सरकारी जंगल लछिमा बान्ज नी काट लछिमा बान्ज नी काटा.....
इसी प्रकार इस गीत में गोस्वामी जी की पर्यावरण संरक्षण के प्रति जागरुकता प्रदर्शित होती है:-
आज यौ मेरी सुन लो पुकारा, धाद लगौं छ यौ गोपाला................
boomp3.com
इस प्रकार हम कह सकते हैं कि गोस्वामी जी पर्यावरण तथा उसमें हो रहे बद्लावों के प्रति समाज को सचेत करने का कार्य तभी शुरु कर चुके थे जब हमारी सरकार तथा समाज का तथाकथित बुद्धिजीवी वर्ग सोया हुवा था। यहां पर मैंने गोस्वामी जी के पर्यावरण प्रेम से सम्बन्धित गीतो के बारे उल्लेख किया है, पर गोस्वामी जी का हर गीत कुछ न कुछ सन्देश अवश्य प्रदान करता है। आ़गे हम गोस्वामी जी के गीतों के माध्यम से पहाड़ी समाज के अन्य सरोकारों को भी जानने का प्रयास करेंगे।
एक महान कलाकार वही है जो अपनी कला के माध्यम से केवल समाज का मनोरन्जन ही ना करे बल्कि समाज के प्रति अपने अन्य दायित्वों को भी समझे तथा समाज को उसके प्रति अपनी कला के माध्यम से जागरूक करे। गोस्वामी जी ने जिस प्रकार एक बहुत ही साधारण जीवनशैली में जीवन निर्वाह करते हुये अपनी कला के माध्यम से पूरे समाज को मनोरन्जन के साथ साथ उनके सामाजिक उत्तर्दायित्वों का जो सन्देश दिया है वह उनको उत्तराखण्ड ही नही देश के महान कलाकरों की श्रेणी में रखता है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें